सुन ऐ ज़िन्दगी,,,, मुझे भी शामिल करले ना महफ़िलो में अपनी,,,, हसरत हैं कुछ लम्हों की ख़ुशी मिल जाये..!!

गर तू इज़ाज़त दे एक गुजारिश हैं,, तेरी बाँहो में एक लम्हा  “अरसे ” की तरह बिताने की ख्वाईश हैं..!!

ज़िन्दगी प्यारी और बहुत प्यारी है पर…  सिर्फ तब तक जब तक मैं तेरा और तूँ सिर्फ मेरी है….!!

आदमी जो सुनता है, आदमी जो कहता है.. ज़िंदगी भर वो सदाएँ पीछा करती हैं! आदमी जो देता है, आदमी जो करता है.. रास्ते मे वो दुआएँ पीछा करती हैं!