सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली एक तुझको भूल जाने की मौहलत नहीं मिली करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली।

शुक्रिया ज़िन्दगी जीने का हुनर सिखा दिया कैसे बदलते हैं लोग चंद कागज़ के टुकड़ो ने बता दिया अपने परायों की पहचान को आसान बना दिया शुक्रिया ऐ ज़िन्दगी जीने का हुनर सिखा दिया।

बादलों ने बहुत बारिश बरसाई तेरी याद आई पर तू ना आई सर्द रातों में उठ -उठ कर हमने तुझे आवाज़ लगाई तेरी याद आई पर तू ना आई भीगी -भीगी हवाओ में तेरी ख़ुशबू है समाई तेरी याद आई