सभी पराये हो जाते हैं जो न होती पराई वो है “माँ” ….

लेती नहीं दवाई “माँ” जोड़े पाई-पाई “माँ”।दुःख थे पर्वत, राई “माँ” हारी नहीं लड़ाई “माँ”।इस दुनियां में सब मैले हैं किस दुनियां से आई “माँ”।दुनिया

Read more