मौजूद थी उदासी – उदासी शायरी

मौजूद थी उदासी अभी पिछली रात की बहला था दिल जरा कि फिर रात हो गयी।

Share this post