मुश्किलें दिल के इरादे आजमाती हैं

मुश्किलें दिल के इरादे आजमाती हैं,
हुस्न के परदे निगाहों से हटती हैं,
हौसला मत हार गिर कर ओ मुसाफिर,
ठोकरें इन्सान को चलाना सिखाती हैं.

Share this post