बस एक दिखा दो – दो लाइन शायरी

बस एक दिखा दो – दो लाइन शायरी

दो-चार नहीं मुझको बस एक दिखा दो वो शख़्स जो बाहर से भी अन्दर की तरह हो।

Share this post