तपिश और बढ़ गई – मौसम शायरी

तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद काले स्याह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।

Share this post