चलो आज खामोश प्यार को – अरमान शायरी

चलो आज खामोश प्यार को इक नाम दे दें अपनी मुहब्बत को इक प्यारा अंज़ाम दे दें इससे पहले कहीं रूठ न जाएँ मौसम अपने धड़कते हुए अरमानों एक सुरमई शाम दे दें ।

Share this post