कुछ तो तेरे मौसम – मौसम शायरी

कुछ तो तेरे मौसम ही मुझे रास कम आए और कुछ मेरी मिट्टी में बग़ावत भी बहुत थी।

Share this post